Tuesday, July 24, 2018

Umar Umar

देवकुंड अमझर शरीफ़ और सिहुली दरगाह को पुरातत्व विभाग से तीर्थ स्थल घोसित करने की मांग

Deokund Aurangabad
Deokund Aurangabad
Deokund Aurangabad. दोस्तो हमारे औरंगाबाद जिले में ऐसे कितने ऐतिहासिक और पौराणिक जगह है जिसे आज बिहार की किसी भी सरकार ने ये प्रयास नही की उसे लोगो तक उजागर किया जाए लेकिन जनाधिकार पार्टी की प्रयास से अब तो कुछ होने जा रहा ।
देवकुण्ड की ऐतिहासिकता और पौराणिकता जानने बिहार सरकार के पुरातन विभाग की टीम 26 जुलाई के बाद देवकुंड का दौरा करेगी। यह जानकारी जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के प्रदेश प्रवक्ता श्याम सुंदर ने सोमवार को दी।देवकुंड को शिव सर्किट से जोड़ने के बाबत पार्टी प्रवक्ता श्याम सुंदर और प्रदेश सचिव संदीप सिंह समदर्शी निदेशक से मिले।
निदेशक ने भरोसा दिलाया कि पुरातत्व विभाग की टीम देवकुंड, भृगुरारी, मरहीधाम, अमझरशरीफ व सिहुली, रफीगंज के पचार पहाड़ का दौरा करेगी।नेताओं ने कहा कि देवकुंड हिंदू आस्था का बड़ा केंद्र है तो बगल में हसपुरा प्रखंड के अमझरशीर व पीरू सूफी संतों की नगरी है, लेकिन अफसोस कि दोनों ऐतिहासिक धार्मिक स्थल घोर उपेक्षा का शिकार है। आखिर यह मंदिर कब बना और किसने बनाया? देवकुंड मठ का इतिहास क्या है? क्या सचमुच च्यवन ऋषि की यह धरती तपोभूमि रही है? हजारों वर्षों से प्रज्जवलित हो रहे अग्निकुंड की सच्चाई क्या है?
इलाके को विकसित करने के ख्याल से स्वदेशी की राग अलापने वाली सरकार के रहते क्यों नहीं अबतक आयुर्वेदिक शोध संस्थान स्थापित हुए? जबकि देवकुंड का इलाका जड़ी-बुटियों से भरा पड़ा है। इलाके में रोजगार के ख्याल से मॉडल डेयरी व हर्बल खेती को विकसित किया जा सकता है। विद्वान वाणभर्ट और गणितज्ञ आर्यभट्ट की धरती हसपुरा की प्रमाणिक ऐतिहासिकता क्या है?
ऐसे ही कोतूहलपूर्ण रोमांचकारी सवालों के जवाब के लिये जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) हिंदू-मुस्लिम एकता के ऐतिहासिक धरोहरों की प्रमाणिक जांच कराने व विकसित करने तथा देवकुंड को शिव सर्किट सर्किल और सूफी संतों की नगरी अमझरशरीफ और सिहुली समेत अन्य स्थलों को सूफी सर्किट से जोड़ने की मांग राज्य सरकार से की ।

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.