Sunday, July 1, 2018

Umar Umar

Daudnagar sone bridge | दाऊदनगर सोन ब्रिज

Daudnagar sone bridge
Daudnagar sone bridge, दाउदनगर सोन ब्रिज।
सोन नदी पर चौथा पुल औरंगाबाद के दाउदनगर और रोहतास जिले के नासरीगंज के बीच निर्माण राज्य सरकार करायी है। और इस सोन ब्रिज  निर्माण एजेंसी एससीसीएल ने अंतिम चरण तक  काम किया है। दरसल ये योजना नीतीश सरकार के अहम योजना में से एक है । नीतीश सरकार की पहल रही है कि पूरे बिहार से उसकी राजधानी पटना तक पहुचने में ज्यादा समय न लगे और लगभग 4 से 6 घंटे अंदर बिहार के किसी भी जगह से पहुंच जाए।उसी की कड़ी में इस योजना को कार्य मे लाया गया ताकि आस पास की दूरी इस ब्रिज से कम हो जाय।

राज्य सरकार नाबार्ड से लोन लेकर इस पुल का निर्माण करायी  है। 3 किमी लंबे इस पुल के निर्माण पर 1006 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इससे शाहाबाद और मगध क्षेत्र की दूरी बिल्कुल सिमट जाएगी। खासकर रोहतास और औरंगाबाद जिले की दूरी काफी कम हो जाएगी। और ये हाईवे दाउदनगर साइड को NH98 से जुड़ जाएगी साथ मे नासरी गंज के साइड को स्टेट हाईवे 15 से जुड़ेगी। सो इस प्रकार इस से मगध से भोजपुर की दूरी भी कम हो जाएगी। इसके अलावा कोलकाता को जाने वाली गाड़ी भी इस ब्रिज को क्रॉस करेगी और जीटी रोड पे ड्राइव भी कर सकेंगे।
इतना ही नही इस ब्रिज को बनने से बोध गया और कुशीनगर से दूरी भी कम हो जाएगी जिस से गया में बोध धर्म के लिए एक टूरिज़म के ले नए अवसर भी बढ़ेंगे।

मार्च,2017 में ही पूरा करना था काम :

 बिहार में सोन नदी पर पहले से तीन पुल हैं। कोईलवर पुल, अरवल-सहार पुल और डेहरी पुल। इसमें कोईलवर पुल से अरवल-सहार पुल के बीच की दूरी 41 किमी है, जबकि अवरल-सहार से डेहरी पुल की दूरी 65 किमी है। इन्ही दोनों पुलों के बीच में यह नया फोर लेन पुल बनाया गया है। इस नए दाउदनगर-नासरीगंज पुल से डेहरी पुल की दूरी 23 किमी तो अरवल-सहार पुल की दूरी करीब 39 किमी होगी। मार्च, 2014 में इसका निर्माण शुरू हुआ था और मार्च, 2017 में इसे बना देना था। लेकिन काम में थोड़ी देरी जमीन अधिग्रहण के कारण हुई  दोनों तरफ एप्रोच रोड के लिए 103 एकड़ जमीन की जरूरत थी, जिसे अधिग्रहण करने में काफी परेशानी हुई। दोनों ही तरफ 55 से 60 फीसदी एप्रोच का निर्माण हुआ  शेष हिस्से में किसानों के आंदोलन के कारण काम में देरी हो गई थी दाउदनगर की तरफ 60 एकड़ जमीन तो नासरीगंज की तरफ 43 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया है।

पुल से जुड़े आंकड़े
1006 करोड़ की आई लागत
450 करोड़ रुपये लगे सिर्फ जमीन में
04 लेन का है यह पुल
75 किमी दूरी कम होगी मगध और शाहाबाद के बीच

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.

1 comments:

Write comments
October 25, 2018 at 8:02 PM delete

बेहतर जानकारी

Reply
avatar