Tuesday, August 21, 2018

Aurangabadian

Sachchidananda Sinha College most prestigious college सिन्हा कॉलेज

Sachchidananda Sinha College
Sachchidananda Sinha College

SN sinha college aurangabad, sinha college

,

दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे टोपिक पे बात करने जा रहे है है जिसके बारे में आपको बहुत ही कम जानकारी होगी. और ये सभी जानकारी आप सब को जानना बहुत ही जरुरी भाई है क्योकि आप सब औरंगाबाद जिले के निवासी है और इस जिले के जितने भी एतिहासिक स्थान और संसथान है उसका इतिहास भी जानना बहुत जरुरी हो जाता है. आप हम में से सभी लोग अपने स्कूली शिक्षा के दौरान भारत या बिहार या फिर विशव के इतिहास के बारे में तो स्टडी कर लेते है पर अफसोस अपने स्थानीय जगह या शहर में जो प्राचीन एतिहासिक धरोहर है उसकी तनिक भी जानकारी भी नही होती .

दोस्तों हम बात कर रहे है औरंगाबाद में मौजूद एतिहासिक और बहुत ही पुराने ज़माने के विद्यालय जो की हमारे देश की आजादी के पहले से ही यहाँ पे सकुली तालीम हासिल करते आ रहे है. और आप में से बहुत से ऐसे होंगे जो इसी विद्यालय से अपनी पूरी पढ़ायी करी होगी . यहाँ से पढाई ख़तम करने के बाद आप कही उच्च शिक्षा के मकसद से कही दुसरे विद्यालय में नामांकन कराया होगा. इतना ही नही इस विद्यालय से उच्च तालीम हासिल करने के बाद आप कही अच्छी जॉब कर रहे होंगे.
वास्तव में देखा जाये तो विद्यालय हमारे किस्मत खोलने का और हमारे भविष्य सुधरने का एक पाठशाला है. जी बिलकुल हम बात कर रहे है औरंगाबाद में एक तरह से एतिहासिक महाविधालय सिन्हा कॉलेज के बारे में . बस इस कॉलेज का नाम ही काफी के ये जानने के लिए की ये कितना मशुर है लोगो के जबान पे. और ये आज किसी के नाम के मोहताज नही है इसके बारे में लोगो से अवगत कराराने में.

आप में से सभी लोग अपनी स्टूडेंट लाइफ में औरंगाबाद के किसी भी कॉलेज में आपने स्टडी किया होगा लेकिन जब भी आपकी पढाई की सेमेस्टर पूरी होती होगी और एग्जाम के समय आपको हमेशा एक विधालय का आपके दिमाग में ख्याल जरुर आता होगा सिन्हा कॉलेज के बारे में. आप सोचते होंगे की हमारे स्कूल का एग्जाम का सेंटर कही सिन्हा कॉलेज में चला जाये. मै यहाँ बस ये बताना चाहता हूँ की बचपन से लेकर अपने हायर स्चूलिंग तक इस कॉलेज की यादे जरुर ताजा हो जाते होंगे.

आए जानते है इस एतिहासिक महा विधालय के बारे में. इस कॉलेज का पूर्ण नाम है सचिदानंद सिन्हा कॉलेज जो अधिकतर लोगो के द्वारा सिन्हा कॉलेज के नाम से जाना जाता है जो की इसे स्थापित सन 1943 ई. में यहाँ के स्थानीय निवाशी और सामाजिक कार्यकर्त्ता और गरीब लोगो के मसीहा कहे जाने वाले श्री अखौरी कृष्णा प्रकाश सिन्हा अलियास त्रिपुरारी बाबु और उनके जिगरी दोस्त एवं मोरल सहायक दोस्त डॉ सच्चिदानंद सिन्हा तथा उस समय के महान सवतंत्र सेनानी डॉ. अनुग्रह नारायण सिन्हा के काफी सार्थक पर्यास बदौलत किया गया था.

बताना चाहूँगा की इस कॉलेज के स्थापित होने के बाद इस यूनिवर्सिटी का नाम पटना यूनिवर्सिटी उस समय के तत्कालीन वाईस चांसलर डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा, जो की उन्होंने ने ही उस समय के एक छोटे से सब डिवीज़न टाउन औरंगाबाद जहा उस वक्त जिले में या आस पास के जिले में भी एक भी कॉलेज नही था एक बहतरीन कॉलेज का पटना यूनिवर्सिटी से इसका मन्योव्ता 1944 में प्राप्त करवाया.

एस सिन्हा कॉलेज औरंगाबाद मैं मार्किट से 3 किलो मिटर दूर पोइवं रोड पे स्थित है जो उस रोड से गुजरने वाले सभी यात्री को इसके कैंपस में मौजूद हरे हरे पढ़ और सुंदर कैंपस से उनके मन को मोह लेता है. इस कॉलेज का कुल 20 एकर जमीन में फैला हुआ है. बताना चाहूँगा की ये मगध यूनिवर्सिटी सबसे पुराना और एतिहासिक कॉलेज में से एक है. यहाँ तिन स्ट्रीम साइंस , कॉमर्स , सोशल साइंस में कुल मिलकर 16 विषयों में स्टूडेंट्स को स्टडी करने का मौका मिलता है.

इतना ही नही यहाँ वोकेशनल डिग्री कोर्सेज भी सन 2000 से सफलतापूर्वक अध्यन किया जाता है. इसके आलावा यु. जी. सी. स्पॉन्सर्ड वोकेशनल कोर्सेज जैसे बचेओर ऑफ़ सेल्स प्रमोशन और सेल्स मैनेजमेंट तथा दूसरा सेल्फ finnced वोकेशनल कोर्सेज बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन, बैचलर ऑफ़ बिज़नस मेनागेमेंट बैचलर ओ बायोटेक्नोलॉजी 2007-2008 से सुरुवात भी किया गया है.

बात करे इस कॉलेज में स्टूडेंट की कुल संख्या जो पुरे कॉलेज में अध्यन करते है तो उनका कुल संख्या होता है 9000 जो की अपनी स्टडी पूरी कर के प्रदेश और देश में इस कॉलेज का नाम रोशन करते है. इसका एक जीता जगता मिशल है सवार्गीय श्री हरगोविंद सिंह और प्रोफेसर मंगल दुबे जो की मगध यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर इसी महाविधालय से अध्यन कर के बने थे.

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.