Friday, September 28, 2018

Aurangabadian

बालू खनन में प्रसासन का बड़ा व्यपार तीन पहले 194 गाड़ी को जप्त किया फिर अचानक छोड़ा AbadBiharUpdates

Sand mining in aurangabad bihar
औरंगाबाद में बालू खनन

अलग-अलग थाना क्षेत्रों से प्रशासन
ने तीन दिन पहले गड़बड़ी बताकर
194 ट्रकों और दो पोकलेन को पकड़ा
फिर गुरूवार को सही बताकर सभी
को छोड़ दिया। विगत मंगलवार क
अवैध खनन की सूचना पर खनन
पदाधिकारी वीणा कुमारी व राजीव
रंजन कुमार तथा बारुण सीओ
द्वारा सोन नदी के विभिन्न घाटों
पर छापेमारी कर 194 ट्रक और दो
पोकलेन मशीन को जब्त किया गया
था। इस छापेमारी में बारुणबड़ेम
ओपी व नरारी कला खुर्द थाना की
ने सहयोग की थी। लेकिन आप जानते है
अचानक तीन दिन बाद सभी वाहन को
छोड़ दिया।

अगर सभी वाहन सही थे तो
प्रशासन ने पकड़ा ही क्यूं था?
बालू घाट से पकड़े गए 194 ट्रक
और दो पोकलेन जब सही था, तो

तीन दिन पूर्व प्रशासन ने उसे पकड़ा
ही क्यूं ? अगर जाम की शिकायत
पर कार्रवाई की गई थी तो फिर दो
दिनों तक वाहनों को पुलिस निगरानी
में क्यूं रखा गया ? आखिर दो दिनों
तक प्रशासन ने क्यों नहीं बताया कि
बाहन सही हैं और उन्हें छोड़ दिया
जाएगा। अब वाहन छोड़ने के बाद
खनन अधिकारी जो दलील दे रहे
हैं, वो लोगों को गले उतर नहीं रही।
इसकी हर तरफ चर्चा हो रही है।
लोग बता रहे हैं कि प्रशासन की मिली
भगत है। प्रशासन ठेकेदार से घुस लेकर
उनका गाड़ी तो छोड़ देते है पर इसका गाज
निवासी पर पड़ता है। पहले तो रोक से 5000 रु
ट्रॉली बालू की कीमत हो गई है।

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.