Tuesday, October 2, 2018

Aurangabadian

ओबरा में दिनदहाड़े थाना अध्यक्ष के सामने एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई थाना अध्यक्ष सस्पेंड

Farmer killer in obra aurangabad
ओबरा सड़क मार्ग जाम

बेखौफ अपराधियों ने दो दिन के अंदर ओबरा थाना क्षेत्र में दो हत्या की वारदातों को अंजाम दिया ओबरा थाना क्षेत्र के खरांटी गांव निवासी 50 वर्षीय रवींद्र पांडेय को रविवार की रात अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी . हत्या के बाद सोमवार की सुबह ग्रामीणों ने एनएच 139 पर खरांटी पुनपुन नदी के पास टायर जला कर सड़क जाम कर दिया करीब छह घंटे तक यातायात पूर्णत बाधित रहा . लोग अपराधियों की अविलंब गिरफ्तारी व थानाध्यक्ष सहित गश्ती पर मौजूद पुलिस पदाधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे . यातायात बाधित होने से यात्रियों के साथ साथ स्कूली छात्र - छात्राओं को परेशानी का सामना करना पड़ा लोगों ने पुलिस के खिलाफ जम कर नारेबाजी की व थानाध्यक्ष सहित गश्ती दल के अधिकारी पर गंभीर आरोप लगाये . लोगों का कहना है कि प्रशासन की मिलीभगत से ओबरा में धड़ल्ले से बालू और शराब का कारोबार चल रहा है . 

अपराधी बेखौफ घूम रहे है लोगों द्वारा सड़क जाम किये जाने की सूचना पर एएसपी अभियान राजेश कुमार सिंह , एसडीओ अनीश अख्तर एसडीपीओ राजकुमार तिवारी इंस्पेक्टर केके साहनी दाउदनगर थानाध्यक्ष अभय कुमार सिंह खुदवां थानाध्यक्ष अभय शंकर सिंह घटनास्थल पर पहुंचे और लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास किया पर लोग थानाध्यक्ष को अविलंब हटाने पीड़ित परिवार को मुआवजा देने और परिवार को सुरक्षा मुहैया र लोगों की हत्याएं कर रहे हैं .कराने को लेकर अड़े रहे . एसडीपीओ ने लोगों को थानाध्यक्ष को हटाने और पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का आश्वासन दिया लेकिन लोग थानाध्यक्ष को तुरंत हटाने की मांग को लेकर सड़क पर जमे रहे . इसके बाद वरीय अधिकारी ने जब थानाध्यक्ष को हटा देने की घोषणा की तब जाकर लोगों ने जाम हटाया और करीब छह घंटे के बाद यातायात बहाल हुई . जाम समाप्त होने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए औरंगाबाद भेजा खटाल चला कर करते थे जीविकोपार्जनःखरांटी गांव निवासी रवींद्र पांडेय ने कई गाय पाल रखे थे . उन गाय का दूध बेच कर वो अपने घर परिवार का जीविकोपार्जन करते थे . आसपास के लोग रवींद्र पांडेय के खटाल में प्रतिदिन दूध के लिए आया करते थे . लोगों की माने तो सुबह से शाम तक गाय की देखभाल उसे खिलाना पिलाना और दूध निकाल कर बेचना उनकी दिनचर्या थी . पांच भाइयों में चौथे नंबर पर गया .





औरंगाबाद कार्यालय ओबरा थाना क्षेत्र के खरांटी में बीती रात हुई 50 वर्षीय किसान की हत्या के बाद आक्रोशित ग्रामीणों की मांग को देखते हुए ओबरा थानाध्यक्ष हरेंद्र कुमार को एसपी ने तत्काल प्रभाव से हटा दिया है . गौरतलब है कि किसान की हत्या के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने खरांटी गांव के समीप एनएच 139 जाम कर और टायर जला कर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ जम कर नारेबाजी की थी . ग्रामीणों ने स्थानीय थानाध्यक्ष की कार्यशैली को लेकर कई आरोप लगाये और जाम छुड़ाने पहुंचे अधिकारियों को विगत चार मेंहीनों के अंदर हुए हत्याओं का ब्योरा दिया ग्रामीणों ने अधिकारियों से बताया कि 29 सितंबर की ही रात को अपराधियों ने सोये हुए 80 वर्षीय किसान की हत्या थे रवींद्र : मृतक रविंद्र पांडेय पांच भाईयों में चौथे नंबर पर थे . उनके सबसे बड़े भाई राजकिशोर पांडेय दूसरे वीरेंद्र पांडेय तीसरे कुलेंद्र पांडेय
कर दी थी और एक ही रात बीतने के बाद पुनः वैसी ही घटना को अंजाम दिया . स्पष्ट है कि अपराधियों के हृदय में पुलिस का खौफ समाप्त हो चुका है . एसडीपीओ राज कुमार तिवारी ने बताया कि ग्रामीणों के द्वारा थानाध्यक्ष को हटाने व मृतक के भाई के द्वारा आत्मरक्षा के लिए हथियार के लाइसेंस की मांग की गयी थी जिसकनी जानकारी एसपी को दी गयी और उनके निर्देशानुसार दोनों मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया गया और सड़क को जाम हटवाया गया . 


ग्रामीणों ने स्थानीय थानाध्यक्ष की कार्यशैली को लेकर कई आरोप लगाए और जाम छुड़ाने पहुंचे अधिकारियों को विगत चार महीनों के अंदर हुई हत्याओं का ब्योरा दिया . 9 सितंबर की ही रात को अपराधियों ने सोये हुए 80 वर्षीय किसान की हत्या कर
दी थी और एक ही रात बीतने के बाद पुन वैसी ही घटना को अंजाम दिया . स्पष्ट है कि अपराधियों के हृदय में पुलिस का खौफ समाप्त हो चुका है . एसडीपीओ राज कुमार तिवारी ने बताया कि ग्रामीणों के द्वारा थानाध्यक्ष को हटाने व मृतक के भाई के द्वारा आत्मरक्षा के लिए हथियार के लाइसेंस की मांग की गयी थी जिसकी जानकारी एसपी को दी गयी और उनके निर्देशानुसार दोनों मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया गया और सड़क को जाम हटवाया गया , हालांकि पिछले दो दिनों के अंदर लगातार दो किसानों की हत्या के कारणों का खुलासा तो अब नहीं हो पाया है लेकिन इस मामले में एसडीपीओ श्री तिवारी ने बताया कि प्रथम दृष्टया दोनों हत्याओं के प्रकृति को देखते हुए इसे साइको इफेक्ट माना जा सकता है . Photo and news credit prabhat khabar

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.