Saturday, November 10, 2018

Umar Umar

अमझरशरीफ गांव में दादा सैयदना साहब के मजार पर शुक्रवार से दो दिवसीय 500वां उर्स शुरू हुआ प्रशासनिक स्तर पर यहां कोई व्यवस्था नहीं


हसपुरा प्रखंड के अमझरशरीफ गांव में दादा सैयदना साहब के मजार पर शुक्रवार से दो दिवसीय 500वां उर्स शुरू हुआ । उर्स में स्थानीय लोगों के - साथ अन्य राज्यों से भी लोगों का पहुंचना शुरू हो गया । उर्स को लेकर गांव में मेला लगाया गया है । यहां पहुंचे लोग दादा साहेब से जुड़ी अनमोल वस्तुओं का अवलोकन करते हैं ।


हलॉक , प्रशासनिक स्तर पर यहां कोई व्यवस्था नहीं की गयी । है । मेला की शुरुआत खानकाह कादरिया शहजादा नशी सैयद शाह , सरफहीन नयर कादरी ने खानकाह मैदान में प्रथम कुराई करते हुए इसकी शुरुआत की इससे पूर्व तोसा शरीफ का फात्या किया गया । सैयद शाह जमालुद्दीन कादरी ने कहा इस खानकाह  ा फैज सबके लिए है । यहां हर किसी की मन्नत पूरी होती है । उन्होंने बताया शनिवार की सुबह मुर मुबारक के साथ अन्य तबरसात 


की जियारत करायी जाएगी ।


सुबह में महिलाएं इसमें शामिल होंगी वहीं पुरुषों को दोपहर के बाद शामिल किया जाएगा । प्रखंड के अमझरशरीफ गांव स्थित दादा सफेदना साहब के मजार पर दो दिवसीय उर्स मेले में बिहार के अलावा झारखंड , उत्तरप्रदेश , उड़ीसा , राजस्थान , मध्यप्रदेश , बंगाल छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्यों से हजारों लोग पहुंचते हैं ।


इनके आने 


का सिलसिला गुरुवार के शाम से ही जारी है । वे सवेंदना दादा के अनमोल वस्तुओं को देखने पहुंचते हैं । मेले में जलसा के साथ दादा संवेदना साहब के जीवनी से जुड़ी गीत - गजल का कार्यक्रम भी किया जा रहा है । उसके बाद निर्धारित समय से खानकाह के 13 वें वंशज हजरत सैयद हसनैन कादरी खानकाह मोहम्मदिया कादरिया अनमोल वस्तुओं को दिखाएंगे । 

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.