Thursday, November 22, 2018

Aurangabadian

पूरे प्रदेश में सरकारी अस्पताल में हड़ताल मरीज लोग परेशान


भोजपुर के जिलाधिकारी द्वारा चिकित्सक के ऊपर किये गये अभद्र व्यवहार के विरोध में पूरे प्रदेश के चिकित्सक भाषा के आह्वान पर ओपीडी सेवा ( जेनरल सेवा ) कार्य को बहिष्कार को सिर्फ इमरजेंसी सेवा दे रहे है . ऐसे में बुधवार की दोपहर सैकड़ों मरीज बिना इलाज कराये ही सदर अस्पताल से निराश होकर घर लौट गये हालांकि चिकित्सकीय व्यवस्था में आम लोगों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो और सुचारु रूप से इलाज किया जा सके .


इसके लिए अनुमंडल पदाधिकारी डॉ प्रदीप कुमार सिविल सर्जन डॉ अमरेंद्र नारायण झा सदर अस्पताल का जायजा लिया वहीं सदर अस्पताल में पदस्थापित चिकित्सकों से अपील करते हुए कहा कि जो भी मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं उन्हें उनका इलाज करें ताकि इलाज के अभाव में आम मरीजों की जान नहीं जा सके .


सिविल सर्जन ने 


कहा कि चिकित्सकों का विरोध एक सिस्टम से है न की मरीजों से . भोजपुर में जिस प्रकार की घटना हुई है . वह निंदनीय व चिंतनीय है . भविष्य में चिकित्सकों के साथ इस तरह की घटना नहीं घटे इसके लिए हम सभी चिकित्सक से लेकर अधिकारी सरकार से मांग कर रहे हैं . हालांकि यह विरोध किसी के लिए व्यक्तिगत नहीं है ,


बल्कि भाषा द्वारा आह्वान किया गया है जिसका हम सभी लोग समर्थन करते हैं . गौरतलब है कि भोजपुर में 


जिलाधिकारी द्वारा एक चिकित्सक के साथ काफी अभद्र व्यवहार किया गया है , जिसके कारण चिकित्सकों में आक्रोश है . इधर ओपीडी सेवा बंद होने मरीजों को परेशानी हुई




से जहां आम महिलाओं को भी दुश्वारियों का सामना वहीं गर्भवती करना पड़ा . इनपुट प्रभातख़बर

अगर आप चाहते है की ऐसे ही बेहतरीन आर्टिकल पढना तो आप अपना ईमेल आई डी यहाँ डाले और सीधे पाए लेख अपने ईमेल पे :
आपको इस आर्टिकल को पढने के लिए और इस पेज पे विजिट के लिए धन्यवाद | आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें जरुर बताये निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में. आप अपना बहुमूल्य विचार निचे व्यक्त करें.