Showing posts with label Madanpur. Show all posts
Showing posts with label Madanpur. Show all posts
औरंगाबाद के पल पल से अपडेट रहने के लिए और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें,ट्विटरपर फॉलो करें। धन्यवाद !

Thursday, October 11, 2018

Aurangabadian

आस्था व विश्वास का प्रतीक है औरंगाबाद के उमगा मंदिर Umga temple is the symbol of faith and trust

umga temple Aurangabad
umga temple Aurangabad

उमगा मंदिर औरंगाबाद। umga temple Aurangabad औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र में उमगा पहाड़ पर स्थित मां उमंगेश्वरी का स्थान आस्था व विश्वास का प्रतीक है . पर्यटन के दृष्टिकोण से अति महत्वपूर्ण उमगा तीर्थस्थान पूरे क्षेत्र विख्यात है .


मनोरम प्रकृति के बीच हजारों वर्ष पूर्व निर्मित मंदिरों व उनमें स्थापित देवी देवताओं के दर्शन कर श्रद्धालु अपने आप को धन्य मानते हैं . उमगा सूर्य मंदिर में अवस्थित शिलालेख में वर्णित है ' याते तर्क नवाग्र बुद्धिन गुणिते सम्वत् सरे विक्रमे वैशाखे गुरू वासरे शिवशरे पक्षे तृतीय तिथौ रोहिण्यां पुरुषोत्तम भुद्रा सुभद्रा प्रतिष्ठान पथदैक देव विधिनः श्री भैरवेंद्रण इन तथ्यों को अवलोकन करने मात्र से ही यह स्पष्ट हो जाता है कि विक्रम संवत 1946 वैशाख तृतीया गुरुवार के दिन उमगा राज्यवंश के 13 वें खानदान के राजा भैरवेंद्र ने भगवान जनार्दन बलिराम व सुभद्रा की प्राण प्रतिष्ठा देव विधान से विद्वान पंडितों द्वारा करायी थी


. और शेर को मारा था अइल ने 
उमगा का इतिहास काफी पुराना है . यूं तो जैसा कि नाम से ही स्पष्ट होता है कि उमगा उमंगा का ही विकृत रूप है . उमगा राज्य अपने था , समय वांकुड़े राजे रजवाड़े मास में खेलने चरमोत्कर्ष उस वीर सावन आखेट के लिए पूरे भारत वर्ष से इस पर आया करते थे आखेट कौशल का आनंद ऐसा कहीं नहीं मिलता था , तभी तो इसका नाम उमंगा रखा गया था . प्राचीन ग्रंथों व शोधों से जो बातें सामने आयी उसके अनुसार यह क्षेत्र कोल - भीठम आदिवासी राजा दुर्दम का क्षेत्र था . शुरू में अइल व इल नामक दो भाई आखेट खेलने आये थे . आखेट के दौरान अपनी बहादुरी से दोनों भाइयों ने शेर को पटक कर मार दिया था . इससे प्रभावित राजा ने प्रसन्न होकर अपनी एकमात्र पुत्री की शादी अइल से कर दी . साथ ही घर जमाई बना कर रखना कबूल करवा लिया . दूसरे भाई अपने देश चले गये . 

उमगा पहाड़ पर हैं 52 मंदिर

 उमगा पहाड़ पर 52 मंदिरों की श्रृंखला है . उमगा पहाड़ स्थित सूर्य मंदिर मां उमंगेश्वरी मंदिर गौरी शंकर मंदिर का अपना इतिहास है . पहाड़ पर बहुमूल्य मूर्तियों की भरमार है . पहाड़ पर प्राकृतिक छटा देखते ही बनती है .


कलाकृतियों व ऐतिहासिक धर्मस्थल की भरमार है बिखरी पड़ी मूर्तियों के संग्रह के लिए एक संग्रहालय का होना आवश्यक है . यह पहाड़ी पर्यटन के मानचित्र से दूर है . सदियों से उमगा मंदिर विख्यात रहा है . इसकी पुष्टि 18वीं सदी के ब्रिटिश चित्रकार विनियम डेनियल ने भी उमगा आकार मंदिर की पेंटिंग बनाकर कर दी है . पहाड़ी के नीचे तलहटी में सड़क से लगा हुआ पोखरा भी है . उमंगश्वरी मंदिर में वैष्णव और शाक्त सभी एक ही छत के नीचे हैं . मां के बगल में मार्तड भैरव की मूर्ति है . यह दुर्लभ स्थान है , क्योंकि शाक्त और वैष्णव की पूजा एक साथ होती है . भगवती उमंगेश्वरी के मंदिर में श्रद्धालुगण बली पूजा कर अपनी कामना सिद्ध करते हैं . मां के बगल में मार्तड भैरव है . उनकी पूजा वैष्णव रूप में की जाती है . मनोकामना पूर्ण होने पर मां को भक्तगण ढकना में मिट्टी के बर्तन ) चावल के आटे का भेड़ा का स्वरूप बनाकर भोग लगाते । और मां को प्रसन्न करते हैं .


यह ऐसा दुर्लभ स्थान है कि लाखों टन काचट्टान एक छोटा से बिंदु पर टिका हुआ , जो एक रहस्य है . यहां पर श्रद्धालु विशेष रूप से माघ माह के गुप्त नवरात्र में अपनी मनोकामना लेकर मां के दरबार में आते है और उनकी मनोकामाना पूर्ण भी होती है . 
Read More

Saturday, September 1, 2018

Umar Umar

Umga sun temple umga most points of interest of aurangabad

Umga sun temple
Umga surya mandir
Umga mandir Madanpur Mnpur umga temple बिहार के औरंगाबाद वास्तव में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल है जिन्हें सायद उतना लोगो तक प्रसार नही किया गया जितना जरूरी थी। औरंगाबाद में ऐसे कई धार्मिक स्थल है जहाँ सालो भर यहाँ सर्द्धालु मन्नत लेके आते है या घूमने आते है जैसे काफी ऐतिहासिक देव सूर्य मंदिर या देवकुण्ड धाम या मुस्लिम धर्म के मानने वालों अमझर शरीफ में बाबा सैयदना दादा का मजार। ये सब धार्मिक स्थलों को कोई पहचान की जरूरत नही है।

मगर इन्ही में से प्राचीन उमगा में सूर्य मंदिर भी है जो सायद ही काफी लोगो को मालूम होगा। अधिकतर लोग इस मंदिर का प्राचीन इतिहास नही जानते है साथ ही इस मंदिर की किया खासियत है इससे भी अपडेट नही है तो आइए जानते है इस प्राचीन सूर्य मंदिर के बारे में ।

दरसल ये प्राचीन सूर्य मंदिर जो उमगा में है औरंगाबाद  जिला मुख्‍यालय से 27 कि0‍मी0 की दूरी पर अवस्थित है और  ग्रैण्‍ड ट्रंक रोड जिसे अधिकतर लोग( जीटी रोड के नाम से भी जानते है) से 1.5 कि0मी0 दक्षिण की ओर एवं देव सूर्य मंदिर से से 12कि0मी0 की दूरी पर स्थित है जो कि औरंगाबाद जिले और  बिहार राज्य की सर्वाधिक महत्‍वपूर्ण पुरातात्विक धरोहरों में से एक है।



वैसे बताना चाहूंगा कि  19वीं एवं 20वीं शताब्‍दी के प्रायः सभी नामचिन पुरातत्ववेताओं ने यहॉ के मंदिर श्रृंखलाओं का दौर किया था और सर्वेक्षण भी किया तथा उसे अपने सर्वेक्षण प्रतिवेदन में महत्‍वपूर्ण स्‍थान दिया है  आपको मालूम है  मेजर किट्टो ने सन् 1847ई0 श्री कनिंघम ने 1876ई0 जे0डी0 बेगलर ने 1872 ई0 ब्‍लॉच ने 1902 ई0 में इसका पुरातात्‍विक सर्वेक्षण किया तथा इसे अपने सर्वेक्षण प्रतिवेदनों में महत्‍वपूर्ण स्‍थान दिया था। परंतु इतने सर्वेक्षण के बावजूद भी ये प्रसिद्ध मंदिर नेताओं के उपेक्षा का शिकार है। हालांकि बिहार के वर्तमान में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने इस प्राचीन धरोहर में  यात्रा किया था और यहां आकर माना था कि मदनपुर ब्लॉक के उमगा पर्यटकों के लिये अच्छी जगह है। यहां के पहाड़ियों में ऐसी  हरियाली है  की सब की मन मोह सकता है। और उन्होंने वादा किया था की उमगा को धार्मिक पर्यटकों की सूची में जल्द ही सामिल कर लिया जाएगा।

वैसे उमगा जगह काफी पहाड़ियों वाला है उमगा  के  पहाड़ियों पर कई मंदिर एवं मंदिरों के अवशेष मिलाकर मंदिर ऋखला है इसकी पश्चिमी ढलान पर पूर्वाभिमुख वृहद मंदिर है जो देव मंदिर के ही समरूप है (इसकी लम्‍बाई 68.60फीट x 53 फीट एवं उचॉई 60 फीट) गर्भगृह के अतिरिक्‍त यहॉ भी मण्‍डप है जो सुडौल एकाश्‍मक स्‍तम्‍भों के सहारे है।  मंदिर में आप जैसे ही प्रवेश आप करेंगे तो  प्रवेश करने के बाद द्वार के बांयी तरफ एक शिवलिंग एवं भगवान गणेश की मूर्ति भी है। गर्भगृह में भगवान सूर्य की मूर्ति है मंदिर के दाहिने तरफ एक वृहद शिलालेख है सभी मूर्तियां एवं शिलालेख काले पत्‍थर से बने है जो पालका‍लीन मूर्ति कला के उत्कृष्‍ट नमूने है मेजर किट्टो जो यहां भारतीय पुरातत्व विभाग के टीम में पहले व्यक्ति थे जो यहां अध्ययन करने को आये थे उन्होंने यहॉ के शिलालेख का काफी गहराई से  अध्‍ययन किया था काफी अध्यन करने के बाद उसका अनुवाद अपने सर्वेक्षण प्रतिवेदन में दिया है


मेजर किट्टो के अध्ययन के अनुसार
 इस अभिलेख में उमगा के स्‍थानीय शासकप्रमुख की वंशावली है जो अपने को चन्‍द्रवंशी यां सोमवंशी कहते थे इस वंशावली की शुरूआत भूमिपास से प्रारम्‍भ होकर भैरवेन्‍द्र तक आती थी। मंदिर की स्थापना किस ने की ऐसे में कई लोग ने अलग अलग रे देते है लेकि पुरातत्व विभाग के अनुसार  राजा भैरवेन्‍द्र ने ही इस मंदिर की स्‍थापना की थी इनके द्वारा मंदिर में कृष्‍ण बलभद्र एवं सुभद्रा की मूर्तियां स्‍थापित करने का उल्‍लेख है

इस मुख्‍य मंदिर के अतिरिक्‍त उमगा पहाड पर कई मंदिर जिनमें प्रमुख सहस्‍त्र शिवलिंग एवं ध्‍वंस शिवमंदिर है उमगा पहाड की श्रृंखालाओं पर मंदिर  निर्माण  की कला एवं तकनीक का भी अध्‍ययन किया जा सकता है उमगा के मंदिरों का निर्माण यहॉ के स्‍थानीय पत्‍थरों से ही किया गया था।



Read More